Cricket World Cup History : क्रिकेट विश्व कप का इतिहास

Cricket World Cup History : क्रिकेट, जिसे अक्सर एक सज्जन खेल के रूप में जाना जाता है, उसका एक समृद्ध इतिहास है जो मिलजुल के साथ, प्रतिस्पर्धा और उत्कृष्टता की पुरस्कृता के आस-पास घूमता है। क्रिकेट विश्व कप, एक अंतरराष्ट्रीय चैम्पियनशिप, जो विश्वभर से टीमों को एक साथ लाता है, ने खेल की कथा को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। आइए उस रोचक यात्रा में डूबते हैं जिसमें क्रिकेट विश्व कप का विकास हुआ।

भारत में हर छोटे से मैदान में बच्चों को क्रिकेट खेलते देखा जा सकता है। इंग्लैंड इस खेल में सबसे अच्छा है | क्रिकेट बहुत लोकप्रिय है, इसलिए इसे जिला स्तर से लेकर अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में बांटा गया है. खेल में सक्षम होने पर खिलाड़ी को बड़े स्तर की प्रतियोगिता में भाग लेने का मौका मिलता है। इस पेज पर आईसीसी विश्व कप क्या है? भारत ने पहला विश्व कप कब जीता? “Cricket World Cup History”

What is ICC world cup in Hindi : आईसीसी विश्व कप क्या है ?

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद का उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेलों का आयोजन करना है यह परिषद विभिन्न प्रकार की अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट प्रतियोगिताओं का आयोजन करती है आईसीसी ने प्रतियोगिता में भाग लेने वाले खिलाड़ियों और देशों को बैन लगा सकती है अगर वे नहीं मानते हैं। आईसीसी विश्व कप प्रत्येक चार वर्ष में इस परिषद द्वारा आयोजित किया जाता है। आईसीसी से मान्यता प्राप्त देश वर्ड कप में भाग ले सकते हैं | यह क्रिकेट का सबसे बड़ा खेल है | इसमें विजेता टीम को वर्ड कप ट्रॉफी और अन्य पुरस्कार मिलते हैं।

Cricket World Cup History : क्रिकेट वर्ल्ड कप का इतिहास

क्रिकेट का अद्भुत इतिहास है, खासकर भारत में। खिलाड़ियों के दिलों में क्रिकेट वर्ल्ड कप, जिसमें अंतरराष्ट्रीय टीमों की प्रतिस्पर्धा होती है, एक अलग स्थान है। चलिए, क्रिकेट वर्ल्ड कप के इतिहास की रोचक यात्रा पर चलते हैं। (Cricket World Cup History )

15 जून 1909 को लॉर्ड्स के मैदान पर इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका से आए लोगों ने एक इंपीरियल क्रिकेट कांफ्रेंस की स्थापना की। 1926 में वेस्टइंडीज, न्यूजीलैंड और भारत पूर्ण सदस्य बन गए। 1952 में पाकिस्तान इसमें आ गया | दक्षिण अफ्रीका ने 1961 में राष्ट्रमंडल छोड़ दिया, इसलिए इसकी सदस्यता रद्द कर दी गई। 1965 में इसका नाम बदलकर ICC किया गया | इसके नियम भी बदल गए। अब इसमें राष्ट्रमंडल के बाहर के देश भी शामिल हो सकते हैं।

संगठन को मजबूत करने के लिए एसोसिएट सदस्यों को भी शामिल किया गया। पूर्ण सदस्य, फाउंडेशन देश और एसोसिएट देश वोट दे सकते हैं। पूर्ण सदस्य देश और फाउंडेशन देश दो वोट दे सकते हैं, जबकि एसोसिएट देश एक वोट दे सकता है। फाउंडेशन देश भी वीटो का अधिकार था। 1981 में श्रीलंका पूर्ण सदस्य बन गया | 1989 में इसका नाम बदलकर International Cricket Council रखा गया। 1991 में, दक्षिण अफ्रीका एक पूर्ण सदस्य बन गया | 1992 में जिम्बाब्वे और 2000 में बांग्लादेश शामिल हुए।

पहला वर्ल्ड कप : First World Cup

क्रिकेट वर्ल्ड कप की शुरुआत 1975 में हुआ था, लेकिन यह अंतत: वर्ष 1975 में इंग्लैंड में पहली बार आयोजित हुआ था। पहले वर्ल्ड कप का मात्र 50 ओवर की मार्केटिंग था, लेकिन वह खिलाड़ियों के बीच खास पसंदीदा बन गया था।

पहला विजेता : First World Cup Winer

पहले वर्ल्ड कप के पहले विजेता वेस्ट इंडीज रहे, जिन्होंने स्वयं को साबित किया कि वे एक स्थायी टीम हैं। उनका प्रदर्शन बहुत आच्छा था और वे पहले ही प्रयास में क्रिकेट वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम कर लिया।

Cricket World Cup History In Hindi : क्रिकेट वर्ल्ड कप रोचक तथ्य

क्रिकेट वर्ल्ड कप, खेल की सबसे महत्वपूर्ण घटनाओं में से एक है, जो क्रिकेट प्रेमियों को हमेशा उत्सुकता से इंतजार करते हैं। इस घटना से खेल की महानता और संघर्ष की उत्कृष्टता स्पष्ट होती है। क्रिकेट विश्व कप के रोचक तथ्यों को पढ़ें।

  1. पहला वर्ल्ड कप: पहला क्रिकेट वर्ल्ड कप 1975 में खेला गया था और इंग्लैंड में आयोजित किया गया था। पश्चिम इंडीज ने इसे जीता था।
  2. सबसे अधिक विजेता: ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट वर्ल्ड कप के सबसे अधिक बार विजेता बना है, उन्होंने इसे 5 बार जीता है।
  3. सबसे अधिक अंडर-रनर: ऑस्ट्रेलिया केवल विजेता नहीं, बल्कि सबसे अधिक बार फाइनल में पहुंचने वाली टीम भी है, उन्होंने 8 बार फाइनल में खेला है।
  4. सबसे अधिक रन: तिलकरत्ने दिल्ली करण ब्रदमन आयरलैंड के खिलाफ 2007 में 560 रन बनाए थे, जिससे वे एक टूर्नामेंट में सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ियों में शामिल हुए थे।
  5. सबसे अधिक विकेट: आइस्लैंड के ग्लेन मैग्राथ 1992 में 27 विकेट लेकर तोप करने में सफल रहे थे।
  6. सबसे तेज सेंचुरी: श्रीलंका के लासिथ मलिंगा ने 2007 में वर्ल्ड कप में सबसे तेज सेंचुरी दर्ज की थी, उनकी गेंदबाजी की गति 155.7 किमी/घंटा थी।
  7. सबसे अधिक छक्के: आइसलैंड के जेसन रॉय केवल 2007 के टूर्नामेंट में ही सबसे अधिक छक्के लगाने वाले खिलाड़ियों में थे, उन्होंने 14 छक्के लगाए थे।
  8. सबसे अधिक विकेटकीपिंग डिस्मिसल: दक्षिण अफ्रीका के मारक बौचर ने 2003 में सबसे अधिक विकेटकीपिंग डिस्मिसल की दर्ज की थी, उन्होंने 23 डिस्मिसल किए थे।
  9. सबसे तेज शतक: 2011 के टूर्नामेंट में बांगलादेश के गायलवन अश्रफुल ने सबसे तेज शतक जड़ा था, वे केवल 51 गेंदों में शतक बना कर रहे थे।
  10. सबसे ज्यादा अंपायरिंग: डिकी बर्ड सबसे अधिक वर्ल्ड कप मैचों की अंपायरिंग करने वाले अंपायर रहे हैं, उन्होंने 44 मैचों में अंपायरिंग की थी।

इन रोचक तथ्यों ने क्रिकेट वर्ल्ड कप के महत्वपूर्ण पहलुओं को प्रकट किया है और यह इस घटना के पीछे के महत्वपूर्ण व्यक्तियों और पलों की महानता का परिचय देते हैं।

भारत ने पहला विश्व कप कब जीता : World Cup Win India

1983 में भारत ने पहला विश्व कप जीता, वेस्टइंडीज को हराया। 1983 वर्डकप में वेस्टइंडीज को सबसे मजबूत टीम माना गया था। उस समय वेस्टइंडीज की टीम में अच्छे बल्लेबाज थे, जैसे एंडी रॉबर्ट, मैल्कम मार्शल और माइकल होल्डिंग, लेकिन इनके सामने अच्छा बल्लेबाज नहीं खेल सकता था।

फाइनल में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 183 रन बनाए, जो बहुत अधिक नहीं था. भारत की तरफ से कृष्णमाचारी श्रीकांत ने सबसे अधिक 38 रन बनाए।

भारत के बाद वेस्टइंडीज ने बल्लेबाजी की, भारत ने वेस्टइंडीज की टीम को भारी झटका दिया जब मदनलाल और मोहिंदर अमरनाथ ने तीन-तीन विकेट लिए। बलविंदर संधू ने इसके बाद दो खिलाड़ियों को बाहर कर दिया। इस मैच में कपिल देव और रोज बिन्नी ने एक-एक विकेट लेकर वेस्टइंडीज को 140 रन पर आलआउट कर दिया। भारत ने अपनी पहली विश्व कप जीत 43 रन से की थी।

आईसीसी मीडिया के सामने श्रीकांत ने वर्ड कप जीतने के बाद कहा, ‘‘जब हम 1983 में भारत से रवाना हुए थे तो हमने कभी भी विश्व चैंपियन बनने की उम्मीद नहीं की थी।’’ यहां तक कि लंदन में आईसीसी पुरुष क्रिकेट विश्व कप में भाग लेने के लिए मेरा टिकट मुंबई से न्यूयार्क था।उन्होंने कहा, ‘‘ऐसा इसलिए था क्योंकि पहले दो विश्व कप में हम सिर्फ पूर्वी अफ्रीका को हरा पाए थे, हम श्रीलंका से भी हार गए थे, जिसे टेस्ट टीम का दर्जा भी नहीं मिला था।’’

इस वर्ड कप में भारत के कप्तान कपिल देव का आत्मविश्वास टीम के सभी खिलाडियों में साहस और उत्साह लाया, जो अंततः वर्ड कप जीत में बदल गया।

भारत ने दूसरा विश्व कप कब जीता : World Cup Win India

वनडे इंटरनेशनल (ODI) क्रिकेट वर्ल्ड कप एक महत्वपूर्ण खेल है। इस घटना ने खिलाड़ियों की मेहनत, प्रतिस्पर्धा और अंतरराष्ट्रीय योगदान को सराहा है। 2011 में भारत ने दूसरे ओडीआई विश्व कप जीता, जो एक ऐतिहासिक घटना थी।

2007 के बाद भारतीय क्रिकेट टीम ने T20 वर्ल्ड कप जीता, तो वर्ल्ड कप की चुप्पी खत्म हो गई. उसके बाद एक और ओडीआई वर्ल्ड कप हुआ, जिसका इंतजार किया गया था। 2011 था जब भारतीय क्रिकेट टीम ने सर्वोच्च शिखरों पर पहुंचने का समर्थन किया।

महेंद्र सिंह धोनी जीवनी: भारतीय क्रिकेट के महान कप्तान की अद्भुत कहानी 

भारत, बांगलादेश और श्रीलंका ने 2011 में विश्व कप खेला। भारतीय टीम का वर्ल्ड कप में अद्वितीय प्रदर्शन सबको मोहित कर दिया। धोनी की कप्तानी में खेली गई टीम ने न सिर्फ सर्वश्रेष्ठ स्थान हासिल किया, बल्कि भारत की टीम और क्रिकेट प्रशंसकों के दिलों में भी जगह बनाई।

भारतीय टीम के खिलाड़ी, जैसे सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर, युवराज सिंह, हरभजन सिंह और जयवर्धन सिंह, ने अपने अद्वितीय प्रदर्शन से टीम को महत्वपूर्ण जीत दिलाई। युवराज सिंह की शानदार प्रदर्शन ने उन्हें टूर्नामेंट में महत्वपूर्ण खिलाड़ियों में बनाया।

भारत ने श्रीलंका को फाइनल मैच में हराकर विश्व कप जीता। धोनी की नेतृत्व में भारतीय टीम ने मुंबई के वांडेरा स्थित वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए फाइनल मैच में शानदार प्रदर्शन करके टीम की दूसरी वनडे विश्व कप जीती। इससे भारतीय क्रिकेट के इतिहास में एक नया अध्याय शुरू हुआ और भारतीय टीम के खिलाड़ियों और प्रशंसकों के दिल में एक अलग जगह मिली।

ऐतिहासिक जीत के बाद भारतीय क्रिकेट को दुनिया भर में अधिक सम्मान मिला। दूसरे ओडीआई विश्व कप ने भारत की सफलता की कहानी में एक और दिलचस्प अध्याय जोड़ा !

Icc T20 World Cup in Hindi : T20 विश्व कप कब

आईसीसी टी20 विश्व कप, जिसमें कई देशों की टीमें खेलती हैं, एक बड़ी क्रिकेट प्रतियोगिता है। यह घटना वनडे और टेस्ट क्रिकेट के बाद तीसरी सबसे लोकप्रिय श्रृंखला है, जो अपने छोटे और दिलचस्प मैचों के लिए जाना जाता है। ICC T20 विश्व कप के बारे में जानें:

2007 में, ICC T20 विश्व कप, जो वनडे और टेस्ट क्रिकेट का नया फॉर्मेट था, का पहला आयोजन हुआ था। मुख्य उद्देश्य था खिलाड़ियों को अधिक रोमांचक मैचों का आनंद देना और क्रिकेट को एक नई दिशा देना।

2007 में इंग्लैंड ने पहली बार ICC T20 विश्व कप जीता था। इसके बाद से यह विश्व कप हर चार साल में होता है और टीमें अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करती हैं।

2022 में दक्षिण अफ्रीका में ICC T20 विश्व कप का आठवां संस्करण हुआ था। भारतीय क्रिकेट टीम ने इस सीरीज में अच्छा प्रदर्शन किया और न्यूजीलैंड को फाइनल में हराया।

ICC T20 विश्व कप बहुत दिलचस्प है। मुकाबलों की कठिन प्रतिस्पर्धा और छोटे मैचों का आनंद दर्शकों को मनोरंजन देते हैं। खिलाड़ियों का उत्साह और उत्साह देखने लायक होता है, खासकर T20 क्रिकेट की इस फॉर्मेट में।

ICC T20 विश्व कप का माहौल भी अलग है। विभिन्न देशों के खिलाड़ी एक अद्वितीय, अनुभवपूर्ण खेल खेलते हैं, जो क्रिकेट प्रेमियों को पूरी दुनिया से आकर्षित करता है।

ICC T20 विश्व कप का एक महत्वपूर्ण उद्देश्य यह है कि यह विभिन्न क्षेत्रों में क्रिकेट को बढ़ावा देता है। यह भी खेल के नए प्रशंसकों को आकर्षित करने में मदद करता है और क्रिकेट को पूरी दुनिया में फैलाने में मदद करता है।

ICC T20 विश्व कप ने खिलाड़ियों के प्रतिस्पर्धी आदर्शों को बढ़ावा दिया है और क्रिकेट को नई दिशाओं में ले जाया है।

Icc World Rules In Hindi : विश्व कप के नियम

ICC क्रिकेट नियम: International Cricket Council (ICC) ने क्रिकेट के 9 प्रमुख नियमों में बड़े बदलाव किए हैं। हाल ही में इंडिया वूमेन और इंग्लैंड वूमेन के बीच खेली गई वनडे सीरीज में चार्ली डीन के रन आउट को लेकर काफी चर्चा हुई। क्रिकेट जानकारों और प्रशंसकों ने इस विषय पर अपने विचार व्यक्त किए। आईसीसी ने इस बीच क्रिकेट के कई नियमों में भी बदलाव किए, जो आज से प्रभावी हैं।

यह भी पढ़े – रोहित शर्मा की जीवनी

आईसीसी ने इन नियमों को बदलकर मांकडिंग को भी शामिल किया है। इन नियमों को आईसीसी की मुख्य कार्यकारी समिति, जिसका अध्यक्ष सौरव गांगुली है, ने मंजूरी दी है। 1 अक्टूबर, 2022 से ये नियम लागू हो गए।

कैच आउट पर स्ट्राइक : इस नियम के अनुसार, बल्लेबाज कैच आउट होने पर क्रीज़ पर आएगा। भले ही उसने कैच के दौरान बल्लेबाज को छोड़ा हो या नहीं। पुरानी नियम के अनुसार, नाॉन स्ट्राइकर क्रीज़ पर आता था अगर आउट होने वाला बल्लेबाज कैच के दौरान भागकर दूसरे बल्लेबाज को पार कर लेता था।

स्ट्राइक करने के लिए कम समय टेस्ट और वनडे क्रिकेट में पहला विकेट गिरने के बाद नए बल्लेबाज को तीन मिनट का समय दिया जाता था। अब इस समय को दो मिनट कम कर दिया गया है। टी20 में फिलहाल सिर्फ 90 सेकंड हैं।

पिच से बाहर की गेंद डेड बॉल होगी बल्लेबाज किसी भी गेंद को खेलने की कोशिश में पिच से बाहर निकल जाता है, तो उस गेंद को डेड बॉल कहा जाएगा और बल्लेबाज को कोई रन नहीं मिलेगा। वहीं, अगर कोई गेंदबाज़ ऐसी गेंद फेंकता है, जिसे खेलने के लिए बल्लेबाज को पिच से बाहर जाने की आवश्यकता होगी, तो बल्लेबाज को पिच से बाहर जाना पड़ेगा। उस गेंद को डेड बॉल भी कहा जाता है। पहले की शर्तें बल्लेबाज को कहीं से भी गेंद खेलने देती थीं।

फील्डर को पांच रन की पेनल्टी दी जाएगी अगर वह अनुचित हरकत करता है। अगर गेंदबाज़ की गेंद फेंकने से पहले मैदान पर मौजूद कोई भी खिलाड़ी किसी भी तरह की गैरकानूनी हरकत करता पाया गया, तो गेंद को डेड बॉल कहा जाएगा। साथ ही विपक्षी टीम को पांच रन की पेनल्टी दी जा सकती है। मैदानी अंपायर्स इसका निर्णय लेंगे।

नॉन-स्ट्राइकर ड्राइव गेंदबाज के गेंद फेंकने से पहले गैर-स्ट्राइकर बल्लेबाज क्रीज़ छोड़ देता है, तो बल्लेबाज सीधा रन आउट हो जाएगा। इसे पहले मांकडिंग कहा जाता था। इस नियम को पहले “अनफेयर प्ले” कहा जाता था। लेकिन इसे अब सही माना जाएगा।

ओवर रेट पर धीमी पेनल्टी टी20 क्रिकेट में पहले से ही एक नियम है कि अगर गेंदबाज़ी वाली टीम अपने निर्धारित समय पर आखिरी ओवर नहीं शुरू कर पाई तो टीम को 30 गज़ के घेरे में एक अतिरिक्त फील्डर रखना होगा. बाकी बचे हुए ओवरों के लिए। इस नियम को 2023 के वनडे विश्व कप के बाद वनडे क्रिकेट में भी लागू किया जाएगा।

हाइब्रिड पिच महिला टी20 मैचों में अभी हाईब्रिड पिचों का इस्तेमाल किया जाता है। इन नियमों के लागू होने के बाद, सभी मैचों में हाइब्रिड पिचों का उपयोग किया जा सकेगा। हाइब्रिड पिचों में कृत्रिम घास का उपयोग किया जाता है। दोनों टीमों के बीच समझौता होने पर ही इस पिच का इस्तेमाल किया जाएगा।

गेंद फेंकने से पहले रन आउट नहीं होगा अब इस नियम में पूरी तरह से बदलाव हुआ है. पहले, गेंदबाज़ को बल्लेबाज़ को गेंद फेंकने से पहले क्रीज़ से बाहर निकलता हुआ देखने पर गेंदबाज़ को थ्रो करके आउट करने का अधिकार था। अब बल्लेबाज क्रीज़ से बाहर आकर खेल सकेगा।

कंप्यूटर कोर्स सीखे हिंदी में !

पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

प्रश्न 1: पहला क्रिकेट वर्ल्ड कप कब हुआ था?

उत्तर 1: पहला क्रिकेट वर्ल्ड कप 1975 में आयोजित हुआ था।

प्रश्न 2: पहले विजेता कौन था?

उत्तर 2: पहले क्रिकेट वर्ल्ड कप के विजेता पश्चिम इंडीज थे।

प्रश्न 3: क्रिकेट वर्ल्ड कप के दौरान कितने ओवर्स खेले जाते थे?

उत्तर 3: पहले क्रिकेट वर्ल्ड कप में मैचों में 60 ओवर्स खेले जाते थे।

प्रश्न 4: कौन-कौन से देशों ने क्रिकेट वर्ल्ड कप जीता है?

उत्तर 4: क्रिकेट वर्ल्ड कप के विभिन्न संस्करणों में विभिन्न देशों ने खिताब जीता है, जैसे कि भारत, पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया, वेस्ट इंडीज, और श्रीलंका।

प्रश्न 5: आधुनिक समय में क्रिकेट कैसे बदल गया है?

उत्तर 5: आधुनिक समय में, क्रिकेट वर्ल्ड कप में नए आवाजाहीकरण और सामर्थ्य के साथ संवाद किया जा रहा है और खेल के मानकों में नए परिवर्तन हो रहे हैं।

Leave a Comment